Sunday 17 May 2009

आगंतुक का प्रणाम

सभी ब्लॉग प्रेमियों को ऋचीक मिश्रा का प्रणाम। करीब दो साल पहले ब्लॉग पर अपनी कुछ हार्ड बाईलाइन  ख़बरों  को चिपका कर दुनिया भर में लोगों को पढ़ाने का चस्का लगा था। तब आगरा के अंगे्रजी समाचार पत्र में रिपोüटर था। कुछ खबरें मैंने अपने ब्लॉग पर पोस्ट भी की। लोगों ने तारीफ भी की और कुछ के आलोचना का शिकार भी होना पड़ा। अब जयपुर के एक तेजस्वी अखबार का हिस्सा हूं। अंगे्रजी को मोह तो खत्म नहीं हुआ है पर हिंदी प्रेम जरूर जाग गया। इसलिए आप सभी हिंदी ब्लॉग पर लिखने वाले मान्यवरों के जमात में शामिल हो रहा हूं। जिस तरह किसी घर में किसी नवजात के आने से लोगों के चेहरे पर खुशी फैल जाती है उसी तरह उम्मीद है कि इस समुदाय में शामिल होने पर आप सभी को खुशी होगी।

3 comments:

  1. स्वागत है इस शानदार जानदार दुनिया में.

    ReplyDelete
  2. हिंदी शब्द संसार की इस दुनिया में आपका स्वागत है

    ReplyDelete
  3. Well, I will always be the first to read your opinion. The reason is that when a reporter writes something, he definitely opens his heart in his creations. I like to read the true feelings of the people.

    Dinesh Pandey,

    you can also visit my blog, 'dineshpandey165.blogspot.com'

    ReplyDelete